Sunday, September 30, 2012

ढलता सूरज dhalta suraj

डगमगाती चाल,
टूटी अस्थियों की ढाल,
कुछ बुदबुदाते होंठ,
कुछ सहेज रक्खीं चोट,
कांपती जर्जर जरा,
हर श्वांस में अनुभव भरा,
जीकर समय का चक्र,
जिसने मेरु कर दी वक्र,
धुंधला गयी माया,
यहाँ थक हार कर,
झुंझला रही है मृत्यु भी,
पल भर के संसार पर,
वो शायद अनसुना सा,
कर रहा है काल की पुकार,
अब वो जा रहा है पार,
जा रहा है पार दूरी नापने,
जीव और ब्रह्म का,
भेद मापने, अंतर झांपने।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...