Wednesday, May 13, 2015

मैं खता हूँ Main Khata Hun



मैं खता हूँ
रात भर होता रहा हूँ 

इस क्षितिज पर इक सुहागन
बन धरा उतरी जो आँगन
तोड़कर तारों से इस पर
मैं दुआ बोता रहा हूँ
मैं खता हूँ
रात भर होता रहा हूँ 

आँख रोयी या न रोयी
बूँद जो पलकों पे सोयी
मोतियों सा पोर पर रख
जीत कर खोता रहा हूँ
मैं खता हूँ
रात भर होता रहा हूँ

छलक जो आये पलक पर
थरथराते मूक अक्षर
हो गए हैं ब्रह्म देखो
मैं वृथा रोता रहा हूँ
मैं खता हूँ
रात भर होता रहा हूँ

नींद से लड़भिड़ के आये
रूप सतरंगी सजाये
उँगलियों पर रोप सपनें
हर कदम ढोता रहा हूँ
मैं खता हूँ
रात भर होता रहा हूँ ……………………………. नीरज द्विवेदी

Main khata hun
raat bhar hota raha hun

Is kshitij par ik suhagan
ban dhara utari jo aangan
Todkar taron se is par
main dua bota raha hun
Main khata hun
raat bhar hota raha hun

Aankh royi ya n royi
boond jo palkon pe soyi
Motiyon sa por par rakh
jeet kar khota raha hun
Main khata hun
raat bhar hota raha hun

Chalak jo aye palak par
thartharate mook akshar
Ho gaye hain brahm dekho
main vritha rota raha hun
Main khata hun
raat bhar hota raha hun

Neend se ladbhid ke aye
roop satrangi sajaye
Ungliyon par rop sapne
har kadam dhota raha hun
Main khata hun
raat bhar hota raha hun ……………………………. Neeraj Dwivedi

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...