Friday, October 28, 2016

सैनिक Sainik - 3

वो सैनिक है आसमान सी छाती लेकर फिरता है,
धरती के हक़ में सुभाष की थाती लेकर फिरता है।

वो धागा कितना दृढ़ होगा, जिसे कभी न मिली कलाई,
कैसी होगी बहन वो जिसने, सौंप दिया इकलौता भाई,
वो माँ भी कैसी माँ होगी, जो माँ का दर्द समझती है,
घर में बूढी माँ भूखी रहकर भी, बड़ी धनी रहती है,
भूखे जिन्दा अरमानों को, बड़े प्यार से छोड़ किनारे,
बैरागी सन्यासी बनकर, उसी गाँव की साँझ सकारे,
मन में मात्र देश की चिंता, कफ़न बांधकर चलता है,
बंदूकों के साये में जी, किञ्चित स्वाँसे बुनता है,

वो सैनिक है आसमान सी छाती लेकर फिरता है,
धरती के हक़ में सुभाष की थाती लेकर फिरता है।

--- नीरज द्विवेदी


Wo sainik hai aasman si
chhati lekar firta hai,
Dharti ke haq mein subhash ki
thati lekar firta hai.

Wo dhaga kitna drin hoga,
jise kabhi n mili kalai,
Kaisi hogi bahan wo jisne,
saunp diya iklauta bhai,

Wo man bhi kaisi man hogi,
jo man ka dard samajhti hai,
Ghar mein budhi man bhukhi,
rahkar bhi badi dhani rahti hai,

Bhukhe jinda armanon ko,
bade pyar se chhod kinare,
Bairagi sanyasi bankar,
usi ganv ke sanjh sakare

Man mein matr desh ki chinta,
kafan bandhkar chalta hai,
Bandukon ke saaye mein jee
kinchit svansein bunta hai

Wo sainik hai aasman si
chhati lekar firta hai,
Dharti ke haq mein subhash ki
thati lekar firta hai.

--- Neeraj Dwivedi

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...