Saturday, October 29, 2016

दियों की दिवाली - २०१६ Diyon ki Diwali 2016

जो दिये के 
तल अँधेरा 
रह गया था उस दिवाली
इस दिवाली 
उस तमस् को भी नया दिनमान देना

कुछ अँधेरे झोपड़ों पर 
याद रखना इक नजऱ
देखना अबकी चमकती 
हर हवेली के परे
संगमरमर की सतह पर 
रेंगने के मायने
देखना तब आँख से तुम 
बूँद जब कोई झरे

रोक लेना 
दौड़कर गिरते फलक के रंग सारे
दे लवों को 
मुस्कराहट फुलझड़ी का दान देना

जो अँधेरी राह के 
राही छुपे थे रात भर
और जो निकले सुबह 
चुकते दियों को ढूँढते
पेट की ही आग में 
बुझते रहे जलते रहे
अधजले जो मोम के 
टुकड़े मिले कल बीनते

उन भविष्यत् 
के दियों को प्रेम का उपहार देना
उन अभावों 
को जरा संतुष्टि का कुछ भान देना

जानने की चाह कैसे हो 
अगर संशय न हो
अर्थ का अनुमान तब 
जब शब्द से परिचय हुआ
जिन दियों में बस धुआँ है 
उन दियों का कल नहीं
पिस गया फुटपाथ पर 
जो है दिया सोता हुआ

ढूँढना ऐसे 
दिये भी चार जिनमें तेल कम हो
पथ प्रदर्शक 
तुम बनो उनको दिशा का ज्ञान देना

--- नीरज द्विवेदी
१५ अक्तूबर २०१६


Jo diye ke tal andhera
rah gaya tha us diwali,
Is diwali us tamas ko bhi
naya dinmaan dena,

Kuch andhere jhopadon par
yaad rakhna ik najar,
Dekhna abki chamkati
har haweli ke pare,
Sangarmar ki satah par
rengne ke mayne
Dekhana tab aankh se tum
boond jab koi jhare


Rok lena
Daudkar girte falak ke rang sare
De lavon ko 
muskurahat fuljhadi ka daan dena

Jo andheri raah ke 
rahi chupe the raat bhar
Aur jo nikale subah
chukte diyon ko dhundhte
pet ki hi aag mein
bujhte rahe jalte rahe
Adhjale jo mom ke
tukade mile kal beente

Un bhavishyat
ke diyon ko prem ka uphar dena
Un abhavon
ko jara santushti ka kuch bhan dena

Janne ki chah kaise ho
agar sanshay n ho
Arth ka anuman tab
jab shabd se parichay huya
Jin diyon mein bas dhuyan hai
un diyon ka kal nahin
Pis gaya futpath par jo
hai diya sota huya

Dhundhna aise
diye bhi char jinmein tel kam ho
Path pradarshak
tum bano unko disha ka gyan dena

--- Neeraj Dwivedi
15 October 2016

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...