Thursday, April 24, 2014

मुक्तक - तेरे बिन

मुक्तक - तेरे बिन

तुझको जीतूँ लक्ष्य है मेरा, तुझसे जीत नहीं चहिए,
तेरी जीत में जीत हमारी, तेरी हार नहीं चहिए,
तू मेरा प्रतिमान किरन है, जो मैं सूरज हो जाऊँ,
तू मेरा सम्मान किरन है, जो मैं सूरज हो जाऊँ,
तेरे बिन उगने ढलने का भी, अधिकार नहीं चहिए,

तेरे बिन जीने मरने का भी, अधिकार नहीं चहिए।

नीरज द्विवेदी
- Neeraj Dwivedi

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...