Saturday, May 16, 2015

पाषाढ़ पुरूष Pashad Purush

मैं पुरूष,
पाषाढ़ कह कर
मुझको ठुकराओ न तुम

आसमां का रंग गुलाबी, गर तुम्हारे होंठ से है
घुमड़कर घन घन बरसना, पत्थरों की चोट से है
सांस ने तेरी मलय को, खुशबुओं से भर दिया है
तो मुझे
आषाढ़ कह कर
मुझसे घबराओ न तुम

जोड़कर अपने तुम्हारे, स्वप्न कुछ पाले हैं भीतर
दुनिया भर से लड़ झगड़, चोटिल हुए छाले हैं भीतर
रौशनी हो तुम तुम्ही से, दिन युगों से जग रहे हैं
फिर हमें
रातें समझ कर
क्रम को झूंठलाओ न तुम

मैं अगर हूँ मलिन पोखर, तुम हो गंगाजल सी पावन
मैं ठिठुरता शीत हूँ गर, तुम तो ऋतुओं के हो सावन
तुम अगर हो जिंदगी जल सी, सरस मधुरिम सरल हो
तो मुझे
बस पात्र कह कर
खुद को बिखराओ न तुम

मैं पुरूष,
पाषाढ़ कह कर
मुझको ठुकराओ न तुम................................. नीरज द्विवेदी

Main purush
pashad kahkar
mujhko thukrao n tum

Aasman ka rang gulabi
har tumhare honth se hai
Ghumad kar ghan ghan barsna
pattharon ki chot se hai
Sans ne teri malay ko
khushbuyon se bhar diya hai
to mujhe
aashad kah kar
mujhse ghabrao n tum

Jodkar apne tumhare
svpn kuch paale hain bheetar
Duniya bhar se lad jhagad
chotil huye chhale hain bheetar
Roshani ho tum tumhin se
din yugon se jag rahe hain
Fir hamein 
ratein samajh kar
kram ko jhunthlao n tum

Main agar hun malin pokhar
tum ho gangajal si pawan
Main thithurta sheet hun gar
tum to rrituon ke hop savan
Tum agar ho jindagi jal si
saras madhurim saral ho
To mujhe
bas paatr kahkar
khud ko bikhrao n tum

Main purush,
pashad kah kar
mujhko thukrao n tum............................... Neeraj Dwivedi

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...