Monday, October 20, 2014

शत प्रतिशत Shat Pratishat

शत प्रतिशत

तुम होती हो
तो ये सच है

कि सब कुछ
मेरे मन का नहीं होता
मेरी तरह से नहीं होता
मेरे द्वारा नहीं होता
मेरे लिए नहीं होता

ये भी सच है
कि मैं कवितायेँ नहीं लिख पाता
किताबें नहीं पढ़ पाता
ज्यादा काम नहीं कर पाता
मैं मशीन नहीं बन पाता

दूसरे शब्दों में
मैं वो सब कुछ नहीं कर पाता
जिससे ये सिद्ध हो कि मैं हूँ
ये सिद्द हो कि मै जिन्दा हूँ

पर
पर जब तुम होती हो
तब मैं भी होता हूँ
और जीवित होता हूँ
शत प्रतिशत।

--  नीरज द्विवेदी

Tum hoti ho
to sach hai

ki sab kuch
mere man ka nahin hota
meri tarah se nahin hota
mere dwara nahin hota
mere liye nahin hota

Ye bhi sach hai
ki main kavitayein nahin likh pata
kitabein nahin padh pata
jyada kaam nahin kar pata
main machine nahin ban pata

Dusre shabdon mein
main vo sab kuch nahin kar pata
jisse ye siddh ho ki mainn hun
ye siddh ho ki main jinda hun

par
par jab tum hoti ho
tab main bhi hota hun
aur jeevit hota hun
shat pratishat.

--  Neeraj Dwivedi

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...