Sunday, September 7, 2014

जब समझ जाओ, तब तुम मुझको समझाना Jab Samajh Jao, Tab Tum Mujhko Samjhana

तू पिघल रही थी
आँखों से
मोटे मोटे आँसू
ढुलक रहे थे गालों पर
बोझ लिए मन में पहाड़ सा
बैठ रहा था जी पल पल

और दो आँखें देख रहीं थीं
पाषणों की भांति अपलक
पिघल रहा था उनमें भी कुछ
भीतर भीतर
ज्यों असहाय विरत बैठा हो कोई
सब कुछ पीकर

जो बीत रहा वो करे व्यक्त
शब्दों में चाह अधूरी हो
मन सिसक सिसक कर रोता है
जब चुप रहना मज़बूरी हो

हाँ सच है
सच है सबका आना जाना
और सरल बहुत है
औरों को ये समझाना ….

चलो जरा सा, मैं तुमको समझाता हूँ
जब समझ जाओ, तब तुम मुझको समझाना …………

n  नीरज द्विवेदी
n  Neeraj Dwivedi


7 comments:

  1. आपकी लिखी रचना बुधवार 10 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. चलो जरा सा, मैं तुमको समझाता हूँ
    जब समझ जाओ, तब तुम मुझको समझाना …………बहुत सुन्दर !
    रब का इशारा

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार कालीपद जी, उत्साहवर्धन और आशीर्वाद के लिए

      Delete
  3. कितने पल और कितनी यादें लेकर बेशकीमती हीरे बह ही जाते हैं

    गजब की प्रस्तुति

    स्वागत है मेरी नवीनतम कविता पर रंगरूट
    अच्छा लगे तो ज्वाइन भी करें
    आभार। :)

    ReplyDelete
  4. Get the newest gambling trade news delivered straight to your inbox. Glenn Clark and Griffin Bass dig into the NFL, faculty 파라오카지노 soccer, World Series and extra with the best video games, props and parlays to guess this weekend. Plus, “Stets and Figures” from Andrew Stetka and a look at at|have a glance at} the World Series and NFL weekend with Alloy Sports’ Brad Kronthal. Their gaming library is kept secret, so you’ll discover distinctive reels and superior specialty titles you’ve never seen before.

    ReplyDelete

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...