Tuesday, March 18, 2014

मेरे विश्वास Mere Vishwas

मेरे विश्वास

अब नहीं गिनना चाहता मैं मात्राएँ
बनाने को छंद,
बुनने को अपने द्वंद,
क्यों सहारा लूँ पन्नों का
क्यों बहा दूँ अपनी भावनाएं स्याही के रंग में
शब्दों के ढंग में
और क्यों बताऊँ दुनिया को अपने एहसास
अपनी आत्मा के विश्वास,
मुझे डर है
मेरे अपनों की यादें
मेरे सपनो की बातें
मेरे बनने की रातें,
मेरा अहम्, मेरा स्वयं,
मेरा अभिमान, मेरा सम्मान
सब कुछ
भुला दिया जायेगा
जैसे उसने
भुला दिए
मेरे विश्वास …
n  नीरज द्विवेदी ( Neeraj Dwivedi )

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...