Sunday, January 12, 2014

कविता पाठ - दिल्ली में Reciting my poem in Delhi

नीरज द्विवेदी, नांगलोई में आयोजित सुरभि संगोष्ठी में बहुत से अन्य रचनाकारों की उपस्थिति में कविता पाठ करते हुए. — at नांगलोई, दिल्ली. सुरभि संगोष्ठी



No comments:

Post a Comment

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --