Monday, January 27, 2014

क्षणिका – घुंघुरू

क्षणिका – घुंघुरू

बाँध दिए मेरे पैरों में घुंघुरू
शब्दों के
और उसने जाते जाते
छीन लिए
एहसास
कहा अब नाचों
और मैं नाचने भी लगा ….
n  नीरज द्विवेदी Neeraj Dwivedi

n  https://www.facebook.com/LifeIsJustALife

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...