Sunday, January 26, 2014

क्षणिका – महँगी धरती

क्षणिका – महँगी धरती

कल
धरती पर
जो लुट जाती थी
वो जान
लूट ली जाती आज ...
कल भी धरती महँगी थी
आज भी धरती महँगी है ...

--    Neeraj Dwivedi 
-- नीरज द्विवेदी

5 comments:

  1. Replies
    1. बहुत बहुत आभार श्री सुशील जी, उत्साहवर्धन करने के लिए

      Delete
  2. पर धरती की किस्मत में लुटना ही लिखा है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ श्री दिगम्बर जी, यही है हमारे समाज का सभ्यता का कटु सत्य।

      Delete
  3. All projects on Instructables come full with freely downloadable project files, directions and easy-to-follow step-by-step guides. Which makes Instructables one of our favourite places on the internet to Can Opener choose up a brand new} project. Unlike the other file types right here, STEP files allow for incorporating engineering data similar to materials or plastic-type used, geometric dimensions & tolerancing, and mannequin intent throughout the mannequin itself.

    ReplyDelete

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...