Thursday, December 12, 2013

जग रही है या सो रही है जिंदगी Jag rahi hai ya So rahi hai Jindagi

शब्द का विन्यास धरती का रुदन इतिहास,
केवल चल रही है या लड रही है जिन्दगी?

स्नेह आंचल का आंख काजल का परिहास,
केवल हंस रही है या रो रही है जिन्दगी?

शक्ति शान्ति सत्य का आधार विश्वास,
कुछ पा रही है या सब खो रही है जिन्दगी?

मनुष्य का जन्म कर्म और फिर सन्यास,
बीज बो रही है या दाग धो रही है जिंदगी?

मात्र लक्ष्य का है ध्यान और राह का उपहास,
आजकल जग रही है या सो रही है जिंदगी?

-- नीरज द्विवेदी

-- Neeraj Dwivedi

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...