Sunday, October 20, 2013

जैसे कोई शीशा टूट गया हो Jaise Koi Sheesha Tut Gaya ho

एक छन्न की आवाज
जैसे कोई शीशा टूट गया हो
बिखर गया हो
गिरकर आँखों की कोरों से
कोई सपना
कोई अपना
गूंजता रहा एक सत्य
कानों में
एक कड़वा नंगा सच
किशोर के गानों में ……

चलो इसे संगीत बनाते हैं
इन सांसो को
इन आहों को
इस कडवे नंगे सच को
हम भी
एक बार फिर
संवारकर गीत बनाते हैं
नज़्म बनाते हैं ……

वैसे नज़्म भी तो
बिखर सकती है
इक आह के साथ
रोज
एक छन्न की
आवाज के साथ
जैसे कोई शीशा टूट गया हो।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...