Sunday, September 15, 2013

तू मुरली का संगीत नहीं तो क्या होगी Tu murali ka sangeet nahi to kya hogi?

मैं गायक, तू प्यार भरा एक गीत नहीं तो क्या होगी,
मैं बंशीधर, तू मुरली का संगीत नहीं तो क्या होगी?

तू तारापति की शुभ्र चाँदनी,
तू रश्मिरथी की एक किरन,
चंचल शोख पवन का झोंका,
तू मृगतृष्णा मैं एक हिरन,
मैं कीट पतंगों की भाषा, तू ज्योति नहीं तो क्या होगी,
मैं गायक, तू प्यार भरा एक गीत नहीं तो क्या होगी,
मैं बंशीधर, तू मुरली का संगीत नहीं तो क्या होगी?

तू शर्म हया मेरे होंठों की,
तू मीठी मीठी एक जलन,
नयनों से ही कह देती है,
चाहत का हर एक कथन,
मैं अनुरागी, तू जीवन की एक रीति नही तो क्या होगी,
मैं गायक, तू प्यार भरा एक गीत नहीं तो क्या होगी,
मैं बंशीधर, तू मुरली का संगीत नहीं तो क्या होगी?

तू नींद मेरी तू स्वप्न मेरा,
तू मेरे घावों का चन्दन,
शबनम सी एक बूँद सही,
तू प्यास मेरी मेरा जीवन,
मैं संध्या का अरुणिम सूरज, तू प्रात नहीं तो क्या होगी,
मैं गायक, तू प्यार भरा एक गीत नहीं तो क्या होगी,
मैं बंशीधर, तू मुरली का संगीत नहीं तो क्या होगी?

तू मेरी आँखों का पानी,
तू मेरे ईश्वर का वंदन,
तू जीवन की कोख रही,
नवजात प्रभू का अनुक्रंदन,
मैं जीवन की हार सही तू जीत नहीं तो क्या होगी,
मैं गायक, तू प्यार भरा एक गीत नहीं तो क्या होगी,

मैं बंशीधर, तू मुरली का संगीत नहीं तो क्या होगी?
n  नीरज द्विवेदी Neeraj Dwivedi

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...