Monday, June 3, 2013

बोझ आँखों का Bojh Ankhon Ka

क्या देखते हो
आईने में 
लाल आंखें 
गालों पर सूखा पानी 
अपना हाल ....?

अब क्यों ये हाल बना रखा है?
बहा तो दिया 
अभी अभी 
थोड़ी देर पहले
सारा का सारा 
बोझ आँखों से ....

एक दो बूँद हैं 
शायद बच गयीं है
बनी रहने दो 
किसी और दिन काम आयेंगी।

-- Neeraj Dwivedi

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...