Sunday, March 3, 2013

आओ कभी सड़कों पर Aao Kabhi Sadkon Par


हाँ ...
तुम्हें तो ...
रौशनी रौशनी दिखेगी,
आसमानों की ...
नजर से ...
देखते हो ना ...

आओ कभी ...
सड़कों पर ...
मज़बूरी की चप्पल पहने ...
बेशर्मी का चिथड़ा ओढ़े ...

तब गड्ढे भी दिखेंगे ...
और ...
इनके भीतर का ...
अँधेरा भी ...
साथ ही दिखेंगे ...
वो लोग ...
जो तुम्हारे भारत को ...
आज तक ...
अपने कन्धों पर ...
ढोते आ रहे हैं।

4 comments:

  1. नेताओ के लिये भी फिट बैठती है

    ReplyDelete
  2. AAo kabhi sadko par,
    jar jar bharat ka seena mor par,

    Haivano ki hansi zor par,
    Hind ka maans jala marod kar,

    Maathe ka khoon main poonch kar,
    lap lapati agni par var kar,
    Rakh doonga dushmano ko tor kar,

    Jwaala se Jwaala ko baandh kar,
    shatru ke mund ko teer se taan kar,

    Phir Rudra ki Jai Kaar Kar,
    Aaya main bharat pe jaan var Kar..

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bahut Sundar Amit JI .. Abhar Blog tak ane ke liye.

      Delete
  3. amitsinghluthra@yahoo.co.in
    +91 9999 415 584

    ReplyDelete

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --