Tuesday, February 12, 2013

ये नन्हे चिराग Ye Nanhe Chirag



मत बहाना बूँद आँखों  से ये मोती खो न जायें,
ये नन्हे चिराग देश के धूल में गुम हों न जायें।

ये भविष्यत्  की आवाज है,
केवल अश्रु  की फरियाद है,
इन आर्द  आँखों की जरुरत,
बस  प्यार की  बुनियाद है।

ये अस्थि पंजर दिख रहे हैं,
कुछ हाथ  बंजर लग रहे हैं,
आँखों की जुबानी प्यार की,
एक आस तुमसे कर रहे हैं।

इन्हें  डांटकर फटकार कर,
उनकी रईसत  छड रही है,
इन्हें दुत्कारने की हिम्मत,
अब  तुझसे नहीं  होगी, बू
इंसानियत की  आ रही है।

देखो इन्हें करीब से तुम जरा इन्ही के नसीब से,
अभी जो जगी तेरे दिल में  हरारत सो न जाये।
मत बहाना बूँद  आँखों से ये मोती खो न जायें,
ये नन्हे चिराग देश के धूल में गुम हों न जायें।

तुम चाहो इनको बरगलाओ,
या उपेक्षा  कर भूल  जाओ,
अपनत्व  का  देकर  सहारा,
तुम चाहो तो सपने दिखाओ।

पर भूलना मत जो भी करना,
देना  सहारा  या छोड़ देना,
तुम्हारा  कल इन्हीं के हाथ
होगा बात मेरी याद रखना।

ये भूख  इनको खा रही है,
तेरी आँख  देखे जा रही है,
अनजान  होने का  नाटक,
अब तुझसे  नहीं होगा, बू,
इंसानियत  की आ रही है।

चुपके से चाहे अनचाहे जो तेरे जेहन में उमड़ी,
भावना की  निशब्द  बदली खाली हो न जाये।
मत बहाना बूँद आँखों से ये मोती खो न जायें,
ये नन्हे चिराग देश के धूल में गुम हों न जायें।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...