Friday, February 22, 2013

एक बार तो जी जाने दे Ek Bar To Jee Jane De


तेरी उदास आँखें
चश्में का सहारा ले
छिपा लेतीं हैं दर्द तेरा
आँखों का किनारा ले।
टूट जा अब
बिखर जा अब
पा ले खुद को, सुधर जा अब।

पत्थर होने का
नाटक मत कर
शीशा बनकर
बिखरा मत कर
रिश्तों का बोझ
सर पर ढोकर
नदिया पार
कराया मत कर।

मर जाने दो
टूटे नातें
बह जाने दो
बोझिल बातें
टूटे स्वप्नों की सौगातें

बस कर भीतर भीतर मरना
दर्द पराया बह जाने दे
तू खुद को खुद में ही पाकर
एक बार तो जी जाने दे।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...