Saturday, February 2, 2013

बेहतर सुबह Behtar Subah


 आज बहुत दिनों बाद
दिन की सुबह का मुँह देखा
सर्द हवायों से
कंपाने की कोशिश करती
जीवन का उत्साह
जताने की कोशिश करती
किसी शुरुआत का अर्थ
बताने की कोशिश करती
कुहासे से धुंधली पड़ी राहें
दिखाने की कोशिश करती
समझाती पुचकारती
कहती गुनगुनाती
उतार चढाव
समझाने की कोशिश करती
एक सुखद स्वप्न के साथ
बेहतर सुबह का मुँह देखा।

देखा
जीवन का एक और रूप देखा
सुबह के साथ ही
पेट की चिंता करता हुआ
सर्द हवाओं से
लड़ने की हिम्मत करता हुआ
और उससे अधिक
और उससे तेज
और उससे दर्दनाक
अपने ही चुने हुए लोगों के
स्वार्थ से मरता हुआ
असम तरीके से
असमय बढती हुयी
मंहगाई से डरता हुआ
आज फिर
उसकी सुबह का
चिरभूखा निष्ठुर मुंह देखा

फिर आंखे बंद कर
एक सुखद स्वप्न के साथ,
उसकी बेहतर सुबह का मुँह देखा।

3 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुती,प्रशंसायोग्य ही लेखनी।

    ReplyDelete
  3. जिंदगी का एक सच ऐसा भी ...

    ReplyDelete

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --