Thursday, November 22, 2012

अब चोटें दिल दुखातीं नहीं Ab Chotein Dil Dukhati Nahin


इस ज़माने की चोटें, अब दिल दुखातीं नहीं,
ये रूठीं बदलियाँ आह को आँसूं बनाती नहीं।

मेरी जिंदगी बस ओस की एक बूँद है जैसे,
ये प्यास बढाती तो है, पर  बुझाती  नहीं।

हम डूबे झीलों में थे, पर मिला  कुछ नहीं,
वो दोनों नीलीं  तो थीं, पर  समंदर  नहीं।

जलाया एक चिराग था, उस चाँद के लिए,
अब उस दिए में बची, वही एक बाती नहीं।

ये चल रही  नाव, एक दिन  डूबेगी जरुर,
इन इंतजारों  में अब, मौज  आती  नहीं।

कुछ यादों को उस दिन दफ़न कर दिया था,
अब नीदें आती तो हैं, सपने  दिखाती नहीं।

मुस्कुराता चेहरा, लादने की  है आदत मुझे,
जिंदगी के चुटकुलों की शोखियाँ हंसाती नही।

तारे टूट कर उस दिन, कुछ गिरे इस कदर,
लगा वो भी रोती तो हैं शायद जताती नहीं।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...