Wednesday, June 13, 2012

पालतू जुगनू Paltu Jugnu


देशधर्म क्या  होता है, ये हिन्दू  मुस्लिम क्या जाने?
जिसने देहरी पार न की, मौसम की रंगत क्या जाने?

जिनको नींद  नहीं मिलती है, भूखी  नंगी  रातों  में,
वो रोटी पेट समझने वाले, स्वप्न हकीकत क्या जाने?

उनसे आशा  क्या करना जो, माँ पर छुरी चलाते हों,
वो अर्थशास्त्री पैसे वाले, आँसू की कीमत क्या जाने?

जुगुनू जिनको  अँधियारों ने, खुद ही पाला पोसा हो,
चमक दिखा बुझ जाने वाले, उजली संगत क्या जाने?

अब हम  राखों के ढेर तले, दबती  चिंगारी  लाये हैं,
वो फूँक  लगाने  वाले, लपटों की  चाहत क्या जाने?

गीदड़ के शागिर्दों की अब, फौज बड़ी चाहे जितनी हो,
जूंठे टुकड़ों पर पलने वाले, शेरों की ताकत क्या जाने?

ताज पहन कर करें गुलामी, ऐसे मुर्दों की  कमी नहीं,
चमचागीरी करने वाले, अपना फर्ज निभाना क्या जाने?

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...