Friday, May 18, 2012

वो मरहम नहीं हैं Wo marham nahin hain


उन्हें भूल हम  भले ही न  पाएँ  मगर,
भूल जाने की कोशिश तो जी भर करेंगे।

वो हम पर इनायत  तो करते बहुत हैं,
पर मरहम नहीं हैं जख्म हरे ही करेंगे।

नहीं देखना उन्हे लाल नजरों से हमको,
मोहब्बत की लत है ख्वाब में ही मिलेंगे।

दो आँखें  बमुश्किल  डुबा ही  तो देंगी,
वो मदहोश दिल पर असर क्या करेंगे?

लबों की सुर्खियां, उनकी नजाकत, ढिठाई,
खुदा की कसम कहर क्या क्या गिरेंगे?

बेमौत मरना बेहतर है शायद क्योंकि,
हम उनके बिना बेजान सा ही जिएंगे।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...