Wednesday, May 23, 2012

मोहब्बत का पिंजरा Mohabbat ka Pinjra


मोहब्बत का पिंजरा
वक्त बेवक्त  कुछ  लम्हें  छू जाते हैं,
जेहन में  एक चुभन  छोड़  जाते  हैं।

लोग  मासूमियत से  हँसकर यादों में,
ख्वाबों में खुद को दफन छोड़ जाते हैं।

नजाकत  हुस्न की हो  या  मौत की,
दोनों आह और फरियाद छोड़ जाते हैं।

ये मुमकिन है हकीकत हकीकत न रहे,
कल को बड़े बड़े लोग दम तोड़ जाते हैं।

मंजिलों का साथ  सबको नहीं मिलता,
कुछ को  राह के हमराज़ तोड़ जाते हैं।

निशान रह न जाए  जेहन में  कहीं भी,
अपनी मोहब्बत का पिंजरा तोड़ जाते हैं।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...