Sunday, May 13, 2012

मत समझना

1 comment:

  1. अच्छी पोस्ट!
    --
    मातृदिवस की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...