Monday, April 16, 2012

हक़ है हमें भी जीने का


6 comments:

  1. बोध कराती सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  2. चरफर चर्चा चल रही, मचता मंच धमाल |
    बढ़िया प्रस्तुति आपकी, करती यहाँ कमाल ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच
    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. बिलकुल सच कहा,आपने.

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. यथार्थ का बोध कराती सुन्दर भावपूर्ण रचना |
    आशा

    ReplyDelete

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...