Sunday, January 1, 2012

अस्तित्व एक बूंद का: स्वेद

स्वेद क्या है?
एक खारी बूँद, जल की
एक आर्द आह, पवन की
एक शांत वेवेचना, श्रम की

स्वेद क्या है?
एक सुखद पुकार, तन की
एक शीतल हार, ऊष्म की
एक दृष्टा, श्रमिक लगन की
एक झलक, आतुर व्यथित जन की

स्वेद एक, रंग एक, स्वाद एक
और एक मूर्ति, संजोये श्रम अनेक
मौन भाषा और व्याकरण के
संग प्रस्तुत कथा तन की

स्वेद क्या है? ये है स्वेद का अस्तित्व

यदि स्वेद न हों?
यदि हो जायें स्वेद अस्तित्वहीन?

ऊष्मा घुल जाये, तन में
मौन हो जाये श्रम, श्रमिक में
जिव्हा कब तक गवाही दे, यदि
दिखे न एक भी श्रमित बूँद तन पे

यदि फिर भी जीवित रहें वर्जनाएं मालिकों की
तो क्या हो जाये श्रमिक मृतप्राय
श्रम करते करते,
तोड़ दे बर्जनाएं शरीरों की
भावहीन मालिकों को
खुश करते करते

तब कैसे होगी शीतल देह अकल्पित
श्रम धारण करते करते
तब कैसे खाली होगा मेघ अकल्पित
जल भीतर रखते रखते
यदि हो जायें स्वेद अस्तित्वहीन?

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...