Thursday, December 22, 2011

माँ



क्या आप जानते हैं?
एक मानव शरीर केवल ४५ del (मात्रक) तक ही दर्द सहन कर सकता है
परन्तु जन्म देने के समय एक स्त्री ५७ del तक का दर्द महसूस करती है 
जो कि २० हड्डियों के एक साथ टूटने के दर्द के दर्द के बराबर होता है.
- info from google

माँ ने जीवन का धरा पर होता अवतार देखा है,
तपते अंगारों का उदर में होता संचार देखा है,
उस तपस्विनी की पीड़ा का अनुमान कैसे हो?
जिसने स्वं में विकसित हरि का वरदान देखा है।


Love your mother,
the most beautiful person on this earth,
the best critic,
yet your strongest supporter.

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...