Thursday, December 29, 2011

एक इबारत


Clicked by Neeraj Dwivedi

अब बंद करो उकेरना अपने भाव,
बंजर रेत के जाहिल किनारों पर,
लिखो किसी के दिल में,
जहाँ लिखी हुयी इबारत, कभी फ़ना नहीं होती.

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...