Monday, December 12, 2011

अब उठो भारत


हे भारत,
अब उठो तुम सींचने को,
बंजर पड़ी प्यासी धरा,
अतृप्त जन विक्षुब्ध मन,
बदहाल तन देखो जरा ...

हे भारत,
अब उठो तुम जीतने को,
असहाय एकाकी प्रत्येक मन,
धर्म रक्षण राष्ट्र अर्पण,
संहार हो यदि, ध्येय बन ...

हे भारत,
अब उठो तुम लांघने को,
जीर्ण शीर्ण लघु सीमाएँ,
जाति धर्म रंग भेद भाव,
ऊंच नीच की धारणाएँ ...

हे भारत,
अब उठो तुम जानने को,
कटु सत्य भी पहचानने को,
दिग्भ्रमित असहाय पथिक,
धर्म का पथ मानने को ...

हे भारत,
अब उठो तुम हारने को,
स्वार्थ अहं नैराश्य भरा,
स्वपोषण मात्र न ध्येय रहे,
वंचित रहे न बसुंधरा ...

7 comments:

  1. बहुत बहुत बढ़िया नीरज....
    एकदम अलग ढंग होता है आपकी कविताओं का..
    एकदम परपक्व...
    बहुत आगे जाओगे...

    ReplyDelete
  2. अति सुन्दर |
    शुभकामनाएं ||

    dcgpthravikar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!
    शुभकामनाओं सहित!

    ReplyDelete
  4. भारत के युवा वर्क को अब जागने का समय है ... आह्वान करती सुन्दर रचना ..

    ReplyDelete
  5. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-729:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  6. bhart to tab hi uthega jab ham sab milkar uthyenga .sarthak post.

    ReplyDelete
  7. bahut badiyaa deshbhakti se paripoorn rachanaa .bahut badhaai aapko.


    आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२२) में शामिल की गई है /कृपया आप वहां आइये .और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आपका सहयोग हमेशा इसी तरह हमको मिलता रहे यही कामना है /लिंक है

    http://hbfint.blogspot.com/2011/12/22-ramayana.html

    ReplyDelete

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...