Wednesday, November 16, 2011

ये कौन सा देश है

Image From http://bellydanceduventre.com

ये सोने की चिड़िया भारत था,
अब देश बना कंगालों का है।
चन्द्रगुप्त का अद्भुत भारत,
अब देश बना गद्दारों का है॥

नेतृत्व नैतिकता भूल चुका है,
जनता मूर्ख बनी बस सोती है।
अपने अधिकारों को आश्वासन के,
चरणामृत में घोलकर पीते हैं॥

उन पर लिखने की कोशिश क्यों हो?
क्यों हो उन पर लेखनी व्यस्त?
जो सोते महलों में लूटें भारत,
मानवता त्याग बने हैं धनपरस्त॥

ये कलम चलेगी अब जी भर कर,
दीनों हीनों के घावों से रिसकर।
अब बरसेगी उनकी भावना प्रखर,
माँ सरस्वती के रूपों में सजकर॥

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...