Monday, October 10, 2011

एक सीख


छोटी गलतियाँ जब आतीं लेकर हार,
दुःख इतना होता है जैसे बड़ा पहाड़,
पर सूख गए आँसू उस दिन जब,
देखा सागर को भी खाते हुये पछाड़।।

और पाई एक सीख उस दिन कि,
छोटी खुशियाँ भी देती हैं हर्ष अपार,
बस कर्म धर्म है, करो प्रयत्न हजार,
कहती फिर आती ऊंची लहरों का अंबार।।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...