Monday, August 15, 2011

अब लखनऊ में भी स्लटवाक़


अब तो इस दौर को एक नया फैशन कहा जायेगा,

अब तो हमारे गावों में भी ये सब दोहराया जाएगा,

कोई समझाओ इन्हें कि शर्मो हया भी कोई चीज है,

बुरों को तो छोडो, अच्छों को भी बेशर्म कहा जाएगा.

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...