Wednesday, June 22, 2011

कभी चाहत नही रही उनकी


कुछ रिश्ते बहुत अजीब हुया करते हैं,
फ़िर भी दिल के बडे करीब रहा करते हैं।
जिन्हे हम भूलने की कोशिश किया करते हैं,
वो हमें याद जरूर रहा करते हैं॥

कभी चाहत नही रही उनकी बस,
उन्हे यह एहसास दिलाया करते थे।
आप जैसे भी है, बस बहुत अच्छे हैं,
बस यही याद दिलाया करते थे॥

शब्द कुछ और थे, तरीका भी अलग था,
और वे मतलब कुछ और निकाला करते थे।
जीने की कोशिश थी, हँसने का बहाना था,
मेरे संदेश तो उनका दिल बहलाया करते थे॥

मुझे पता था कि वो मेरे लिये नही बने हैं,
अपना कहकर उन्हे बस चिढाया करते थे।
वो चिढते थे, डरते थे, घबराते थे, और,
कभी-कभी तो वो मुझसे रूठ जाया करते थे॥

हम मनाते थे, समझाते थे, फ़िर चिढाते थे,
वो इसे हमारी नासमझी समझा करते थे।
हम उन्हे कुछ देने की कोशिश किया करते थे,
वो अक्सर मुझे ही ठुकराया करते थे॥

वो कहते थे कि कभी देखा नही उस नजर से तुम्हे,
हम उसी नजर के लायक होने की कोशिश किया करते थे।
मुझे पता था कि वो मेरे लिये नही बने हैं, फ़िर भी,
हम उन्ही के लायक बनने की साजिश किया करते थे॥

वो अक्सर मुझे ही ठुकराया करते थे।

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...