Tuesday, June 7, 2011

आदत सी हो गयी है


Neeraj Dwivedi
अब आदत सी हो गयी है, यूँ ही मुस्कुराने की,
यूँ ही लिखने की, लिखते चले जाने की,
सारी राहें बन्द कर दीं, उनके याद आने की,
यूँ ही जीने की, चलते चले जाने की ।

9 comments:

  1. बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  2. तुम इस तरह जो मुस्कुरा रहे हो, क्या ग़म है जिसको छुपा रहे हो?

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत धन्यबाद मोनिका जी, ये मेरे जीवन की पहली काव्य रचना थी, अच्छा लगा आप सबसे उत्साह पाकर

    ReplyDelete
  4. धन्यबाद शाह नवाज जी, इसी तरह उत्साहित करते रहिएगा

    ReplyDelete
  5. साधुबाद सुनील जी

    ReplyDelete

प्रशंसा नहीं आलोचना अपेक्षित है --

Featured Post

मैं खता हूँ Main Khata Hun

मैं खता हूँ रात भर होता रहा हूँ   इस क्षितिज पर इक सुहागन बन धरा उतरी जो आँगन तोड़कर तारों से इस पर मैं दुआ बोता रहा हूँ ...